September 26, 2022
क्या होता है CIBIL SCORE और उसे कैसे बढ़ाए?

क्या होता है CIBIL SCORE और उसे कैसे बढ़ाए?

शेयर करें अपने दोस्तों के साथ

Cibil Score Kya Hota Hai | Cibil Score Improve Kaise Kaire | What is Cibil Score in Hindi | क्या है सिबिल स्कोर और कैसे काम करता है | सिबिल स्कोर कैसे बढ़ाए | सिबिल स्कोर की पूरी जानकारी हिंदी में

आज अगर आप किसी बैंक के पास लोन के लिए अप्लाई करने जाते हैं तो सबसे पहले वह आपका सिबिल रिपोर्ट और सिबिल स्कोर देखते हैं और उसके हिसाब से आपको लोन दिया जाएगा या नहीं यह डिसाइड किया जाता है। जब सिबिल का सिस्टम नहीं था तब कई लोग झूठा रिकॉर्ड बताकर बैंक से लोन ले लेते थे, पर सिबिल रिकॉर्ड का सिस्टम आने के बाद यह चीजें बंद हो गई है। अब लोन लेने के लिए सिबिल रिपोर्ट एक इम्पोर्टेन्ट चीज बन गई है। तो आज हम जानेंगे कि सिबिल रिपोर्ट क्या होता है? सिबिल स्कोर कैसे कैलकुलेट किया जाता है? और सिविल स्कोर को आप कैसे मेन्टेन या इम्प्रूव कर सकते हैं। 

इंडिया में CIBIL जिसे Credit Information Bureau (India) Limitited भी कहते हैं, सबसे बड़ा क्रेडिट ब्यूरो है जो क्रेडिट स्कोर प्रोवाइड करने का काम करते हैं। बैंक्स और फाइनेंसियल इंस्टीटूशन आपके पर्सनल और क्रेडिट से जुड़ी इनफार्मेशन क्रेडिट ब्यूरो को भेजते हैं। तो क्रेडिट ब्यूरो के पास आपके लोन्स और क्रेडिट से जुड़ी सारी इनफार्मेशन होती है। फिर क्रेडिट ब्यूरो जैसे की सिबिल, उस इनफार्मेशन को एनालिसिस करके आपका क्रेडिट क्रेडिट रिपोर्ट बनाते हैं और आपका क्रेडिट स्कोर कैलकुलेट करते हैं। 

Credit Information Bureau (India) Limitited यानि CIBIL इंडिया का सबसे बड़ा क्रेडिट  प्रोवाइडर है इसलिए क्रेडिट स्कोर को जनरली CIBIL SCORE भी कहते हैं। Equifax और Experian यह कुछ और क्रेडिट बुरौस है जो सिबिल की तरह ही क्रेडिट स्कोर निकालते हैं 

 CIBIL SCORE .क्या होता है? 

सिबिल स्कोर 300 से 900 के बीच का स्कोर होता है। जिसे सिबिल आपकी क्रेडिट हिस्ट्री को देखकर निकालती है। सिबिल स्कोर 900 के जितना करीब, उतना बढ़िया। हर बैंक की अपनी अपनी पॉलिसीस और कट ऑफ होते हैं। तो 750 के ऊपर का सिबिल स्कोर बहुत अच्छा माना जाता है। 

 CIBIL SCORE कैसे कैलकुलेट किया जाता है और  CIBIL SCORE कैसे बढ़ाए? 

क्रेडिट ब्यूरो सिबिल स्कोर कैलकुलेट करने के लिए कई सारे फैक्टर्स देखते हैं। अब हम जानेंगे कि वह कौनसे फैक्टर्स है वेइटज दिया जाता है। 

सिबिल स्कोर कैलकुलेट करते वक्त 30% वेइटज आपके Past Performance पर दिया जाता है, यानि आपने जो लोन्स लिए थे उनके किस्ते आपने टाइम पर पे किए हैं या नहीं और क्रेडिट कार्ड बिल्स आपने टाइम पर पे किए हैं या नहीं। अगर आप अपना EMI देर से पे करते हैं या डिफ़ॉल्ट करते हैं तो उसका आपके क्रेडिट स्कोर पर नेगेटिव इम्पैक्ट पड़ता है। Credit Type और Duration को सिबिल स्कोर कैलकुलेट करते वक्त 25% वेइटज दिया जाता है, यानि आपने कौन सा लोन लिया है सिक्योर्ड या उनसिक्योर्ड और कितने टाइम पीरियड के लिया है इस पर 25% वेइटज होता है। 

अगर आपको सिक्योर्ड और उनसिक्योर्ड लोन क्या होता है यह पता नहीं तो आपको बता दें कि अगर आपने बैंक से मॉर्गेज लोन या कार लोन लेते हैं, तब आपको बैंक के पास कोई प्रॉपर्टी या वैल्युएबल चीज गिरवी रखना होता है। अगर आप डिसाइड की गई टाइम पीरियड के अंदर वह अमाउंट बैंक को बैच के साथ रिटर्न नहीं करते हैं तो बैंक के पास उस पॉपर्टी या उस चीज को जप्त करने का अधिकार होता है। तो इस तरह के लोन्स को सिक्योर्ड लोन्स कहा जाता है। वही उनसिक्योर्ड लोन्स जैसे की एजुकेशन लोन या पर्सनल लोन में आपको कुछ भी गिरवी रखने की जरुरत नहीं होती। 

अगर आपने सिक्योर्ड लोन के मुकाबले बहुत ज्यादा उनसिक्योर्ड लोन उठाया है, तो इस चीज का आपके क्रेडिट स्कोर अपर नेगेटिव इम्पैक्ट पड़ता है। उनसिक्योर्ड लोन्स के इंटरेस्ट रेट सिक्योर्ड लोन्स के मुकाबले ज्यादा होते हैं। तो अगर आपने ज्यादा उनसिक्योर्ड लोन्स उठाएं हैं तो उससे पता चलता है कि आप पर ज्यादा इंटरेस्ट लोन का बर्डन है और फिर इसका आपके सिबिल स्कोर पर नेगेटिव इम्पैक्ट पड़ता है। 

अगर आपने लोन कोई ज्यादा टाइम पीरियड के लिया था और उसे आप कई सालों से टाइमली पे कर रहे हैं तो उसका आपके क्रेडिट स्कोर पर अच्छा इम्पैक्ट पड़ता है। सिबिल स्कोर निकलते वक्त Credit Utilization को 25% वेइटज होता है। जो लोग क्रेडिट कार्ड यूज़ करते हैं उनमें कई लोगों को आदत होती है कि उस क्रेडिट कार्ड पर उसे जितनी लिमिट मिली है वो पूरी लिमिट यूज़ करना यानि अगर किसी को क्रेडिट कार्ड पर 1 लाख रुपये की लिमिट मिली है तो वो पूरी लिमिट यूज़ करना। यह गलत है। आपको कभी भी अपनी पूरी क्रेडिट लिमिट यूज़ नहीं करनी चाहिए। अपना सिबिल स्कोर अच्छा रखने के लिए आपको 30-35% से ज्यादा क्रेडिट कार्ड लिमिट यूज़ नहीं करनी चाहिए, यानि अगर आपकी मंथली लिमिट 1 लाख रुपये है तो आपको 30-35 हजार से जयादा अमाउंट यूज़ नहीं करनी चाहिए। अगर आपको अपनी क्रेडिट कार्ड लिमिट बढाकर मिल रही है तो उसे बढ़ा लें पर उस लिमिट की 30-35% अमाउंट ही यूज़ करें और अगर संभव हो तो उससे कम यूज़ करें। 

सिबिल स्कोर कैलकुलेट करते वक्त बचा हुआ 20% वेइटज Other Factors को दिया जाता है। जैसे कि आपका क्रेडिट बिहैवियर, लोन एप्लीकेशन आदि। जब आप किसी बैंक या फाइनेंसियल इंस्टीटूशन के पास लोन लेने के लिए एप्लीकेशन करते हैं तो वह बैंक या फाइनेंसियल इंस्टीटूशन आपका क्रेडिट रिपोर्ट और क्रेडिट स्कोर चेक करने के लिए आपके सिबिल रिपोर्ट पर इंक्वारी डालते हैं। तो अगर आप ज्यादा बैंक्स या फाइनेंसियल इंस्टीटूशन के पास लोन एप्लीकेशन करते हैं तो वह आपका CIBIL SCORE चेक करने के लिए आपके सिबिल रिपोर्ट पर इंक्वारी डालते हैं। और ऐसे ज्यादा एन्क्वारीज से क्रेडिट ब्यूरो को पता चलता है कि आप क्रेडिट हंगरी पर्सन हो। तो यह गलती बिलकुल ही ना करे। इसलिए हर बैंक में अपना लोन एप्लीकेशन डालते मत घूमिए कुछ सिलेक्टेड बैंक्स में ही लोन एप्लीकेशन करे। आजकल बहुत सारी एप्स और वेबसाइट्स आई है जहाँ पर आपको तुरंत लोन मिलता है। तो ऐसे बहुत सारे एप्स और वेबसाइट्स पर लोन एप्लीकेशन मत डाले। 

अगर आपका क्रेडिट स्कोर अच्छा है तो आपको लोन जल्दी अप्रूव होने में और लोन अमाउंट जल्दी डिसगस होने में मदद होती है। ऐसा नहीं है कि सिबिल स्कोर अच्छा होने पर आपकी कोई भी लोन अमाउंट जल्दी अप्रूव हो जाएगी। बैंक्स या फाइनेंसियल इंस्टीटूशन आपके सिबिल स्कोर के साथ ही आपके रीपेमेंट कैपाबिलिटी को देखकर लोन देती है यानि ये ही चेक करते हैं कि आप लोन रीपेमेंट कर पाओगे या नहीं और आपकी इनकम सोर्सेस क्या है। 

अगर आपका  CIBIL SCORE है और किसी मेडिकल इमरजेंसी या किसी और इमरजेंसी के टाइम में आपको लोन निकालने की जरुरत पड़े तो ऐसे समय में आप प्रोब्लेम्स में फंस सकते हैं। तो अपना क्रेडिट स्कोर अच्छा रखने पर काम करें। अगर आपका  CIBIL SCORE खराब हुआ है तो कुछ बैंक्स FD (Fixed Deposit) के अगेंस्ट सिक्योर्ड क्रेडिट कार्ड्स देती है तो आप उस सिक्योर्ड क्रेडिट कार्ड को लेकर उसके बिल टाइम में पे करके अपना क्रेडिट स्कोर बढ़ा सकते हैं। 

यह भी पढ़े: –

प्रधान मंत्री सुरक्षा बीमा योजना
How to Choose Best Health Insurance Policy in 2022
एलआईसी जीवन लाभ 936 प्लान
मेटलाइफ मेरा टर्म प्लान
होम इंश्योरेंस क्या है और इसे क्यों करवाना चाहिए
ग्राम सुमंगल ग्रामीण डाक जीवन बीमा योजना

Leave a Reply

Your email address will not be published.

TATA Capital EMI Card कैसे बनाए? फिनबूस्टर क्रेडिट कार्ड ऑनलाइन कैसे अप्लाई करें Dhani One Freedom Card Kya Hai? Samsung Fingerprint Credit Card क्या है? Bandhan Bank One Credit Card Kaise Le
TATA Capital EMI Card कैसे बनाए? फिनबूस्टर क्रेडिट कार्ड ऑनलाइन कैसे अप्लाई करें Dhani One Freedom Card Kya Hai? Samsung Fingerprint Credit Card क्या है? Bandhan Bank One Credit Card Kaise Le