July 1, 2022
Best Car Insurance Policy: How to Select Best Car Insurance Policy | बेस्ट कार इन्शुरन्स पॉलिसी का चुनाव कैसे करे?

How to Select Best Car Insurance Policy

शेयर करें अपने दोस्तों के साथ

Best Car Insurance Policy: How to Select Best Car Insurance Policy, बेस्ट कार इन्शुरन्स पॉलिसी का चुनाव कैसे करे?

यदि आपके पास कार है तो यह बहुत जरुरी है कि आपके पास एक इन्शुरन्स पॉलिसी रिक्वायर्ड Add-on कवर के साथ जरूर हो। ताकि एडवर्स कंडीशंस में आपके ऊपर काफई काफी ज्यादा फाइनेंसियल बर्डन ना आए। इस तरह इन्शुरन्स की पॉलिसी वही है जो क्लेम होने पर आपके काम आए और आपको इन्शुरन्स की पॉलिसी मिल जाए। लेकिन यह मालूम नहीं होता कि लॉस किस कारन से आएगा। यहाँ मैं आपको कार इन्शुरन्स से जुड़े 5 ऐसी चीजें बताने जा रहा हूँ जो आपको आपके लिए एक सही इन्शुरन्स पॉलिसी लेने में मदद करेगी।

आगे बढ़ने से पहले मैं आपको बता दूँ कि जब भी आपके कार के इन्शुरन्स पॉलिसी का रिन्यूअल आता है, बहुत सारेलोग आपको कांटेक्ट करते हैं और सेम रिन्यूअल का अलग-अलग प्रीमियम बताने लगते हैं। साथ ही साथ आपको अलग-अलग स्टेटमेंट देकर कंफ्यूज करने की भी कोशिश करते हैं। जैसे मैंने आपको जिस कंपनी का क्वोटेशन दिया है सिर्फ वही कैशलेस फैसिलिटी प्रोवाइड करती है। यदि आपने इन्शुरन्स चेंज किया तो कैशलेस फैसिलिटी है मिलेगी। यदि आपने डीलर अलावा किसी और से पॉलिसी लिया तो कैशलेस नहीं मिलेगा और प्रीमियम में प्रॉब्लम होगा। यदि आपने इन्शुरन्स कंपनी चेंज किया तो NCB नहीं मिलेगा। अगर किसी ने आपको कम प्रीमियम बताया है तो वह गलत है और आपकी पॉलिसी में कोई ना कोई फाल्ट जरूर होगा और क्लेम में प्रॉब्लम होगा और इस तरह की ना जाने कितनी बातें। भले ही आप उनको कोई भी जवाब दे लेकिन अंदर से कहीं न कहीं कंफ्यूज पैदा हो जाती है। लेकिन अब आपको चिंता करने की कोई जरुरत नहीं है। यहाँ मैं आपको जो भी बातें बताने जा रही हूँ यदि आप सिर्फ उन पर रखे तो आपको अपनी पॉलिसी लेने में मदद मिलेगी। और आप अपने लिए बिलकुल सही पॉलिसी का चुनाव बेस्ट प्रीमियम लेंगे।

Almost All Insurers Provide Cashless Facility

तो आज के समय में लगभग हर इन्शुरन्स कंपनी कैशलेस फैसिलिटी प्रोवाइड करती है चाहे  पब्लिक सेक्टर कंपनी हो  या प्राइवेट सेक्टर कंपनी हो। चाहे आप पॉलिसी एजेंट से लें , ब्रॉकर से लें, कार के डीलर से लें या ऑनलाइन लें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। तो इसमें बिलकुल भी कंफ्यूज ना हो। और ऐसा बिलकुल नहीं है यदि आप इन्शुरन्स कंपनी चेंज करेंगे तो NCB है मिलेगा या क्लेम में प्रॉब्लम होगी।  

How to Select Best Car Insurance Policy – बेस्ट कार इन्शुरन्स पॉलिसी का चुनाव कैसे करे?

अब हम चर्चा करते हैं उन 5 महत्वपूर्ण चीजों की जिस पर आपको ध्यान देने की जरुरत है। और जिसके बेस पर आप एक बेस्ट कार इन्शुरन्स पॉलिसी का चुनाव कर सकते हैं।

1 . IDV:

तो सबसे महत्वपूर्ण चीज जो सबसे है वह है IDV  अर्थात Insured Declared Value. यह वह वैल्यू होती है जिस पर आपकी गाड़ी का इन्शुरन्स होता है। मतलब किसी भी प्रकार का लॉस में इन्शुरन्स कंपनी इससे ज्यादा का पैसा आपको नहीं देने वाली। सिम्पली यह आपके कार का Current Market Value होता है। यदि आपको यह वैल्यू कम लगती है, तो पॉलिसी रिन्यूअल के समय इन्शुरन्स कंपनी से बात करके 5% से ;लेकर 10% बढ़ा सकते हैं। आपके इन्शुरन्स पॉलिसी का प्रीमियम डायरेक्टली इससे लिंक्ड होता है। यदि यह वैल्यू कम होगी तो प्रीमियम कम होगा और यदि यह ज्यादा होगी तो प्रीमियम ज्यादा होगा। कार जैसी-जैसी पुराणी होती जाती है IDV कम होती जाती है। यह वैल्यू कार के एक्स शोरूम प्राइस और Age से ड्राइव होती है। जिसे आप निचे दिए गए टेबल के माध्यम से समझ सकते हैं। और अपनी कार का IDV कैलकुलेट कर सकते हैं। 

Age of VehicleDepreciation Rate
Less than 6 months5%
Less than 6 months but not exceeding 1 year15%
More than 1 year but not exceeding 2 years20%
More than 2 years but not exceeding 3 years30%
More than 3 years but not exceeding 4 years40%
More than 4 years but not exceeding 5 years50%
More than 5 years – The IDV is calculated based on a mutual agreement between the insurer and the policyholder.
IDV – Invoice value – Depreciation

यहाँ मैं आपको रेकमंड करूँगा कि प्रीमियम को कम करने के लिए IDV को कम बिलकुल ना करे। यह बहुत जरुरी है कि आपकी कार का इन्शुरन्स बिलकुल सही वैल्यू पर हो।

2. Excess / Deductible

जो दूसरी सबसे महत्वपूर्ण चीज ध्यान देने की है वह है पॉलिसी का एक्सेस या डेडक्टिबले। ध्यान रहे यह वो अमाउंट है जिसे हर क्लेम में आपको अपने जेब से देना है। यानि जब भी आप क्लेम करेंगे तो इस अमाउंट को आपके क्लेम अमाउंट से हटाकर इन्शुरन्स कंपनी क्लेम को सेटल करेगी। वर्तमान में कार इन्शुरन्स पॉलिसी का स्टैंडर्ड एक्सेस कार के Cubic Capacity पर बेस्ड है। 1,500CC तक की कार पर एक्सेस 1,000 रूपीस है। और 1,500CC के ऊपर की कार के लिए एक्सेस 2,000 रूपीस है। यदि आप अपने पॉलिसी का एक्सेस बढ़ाते तो इससे प्रीमियम कम होता है।

3 . Add-On Covers:

जो तीसरी महत्वपूर्ण चीज है वह है Add-On Cover, जिसे आप एडिशनल प्रीमियम पे करके लेते हैं। यह बहुत जरुरी है कि जो जरूरी Add-On Cover है वह आपके पॉलिसी में हो। आप अपने जरुरत के अनुसार इसका चुनाव कर सकते हैं। जैसे कि Zero Depreciation Cover, Return to invoice Cover, Engine Protection, Consumable Cover, Quick Assistance Cover, Key Replacement, Daily Cash Allowance, NCB Protection, PA to Unnamed Passenger Etc. यदि आपकी कार नहीं है तो मैं रेकमेंड करूँगा कि आप Zero Depreciation एंड Return to invoice Cover जरूर लें। बाकि सारे कवर आप अपने चॉइस और बजट के अनुसार सेलेक्ट कर सकते हैं।

4 . NCB / No Claim Bonus

जो चौथी महत्वपूर्ण चीज है वह है NCB अर्थात No Claim Bonus . यदि आपने कार इन्शुरन्स की पॉलिसी ली है और पुरे साल कोई क्लेम नहीं करते तो आपको NCB के तहत प्रीमियम में डिस्काउंट मिलता है। और यह डिस्काउंट हर क्लेम फ्री ईयर के साथ बढ़ता जाता है। आपको ध्यान यह देना है कि NCB आपकी पॉलिसी में रिन्यूअल नोटिस में क्लियरली मेंशन हो। यदि NCB मेंशन नहीं होगा तो दूसरी कंपनी आपको 20% से ज्यादा का NCB नहीं दे पायेगी। नॉर्मली सभी पॉलिसी में मेंशन होता है लेकिन कुछ इन्शुरन्स कंपनियां इसे मेंशन नहीं करती। यदि आपके पॉलिसी में मेंशन नहीं है तो इन्शुरन्स कंपनी से कम्युनिकेट करके NCB Letter या NCB का एंडोर्स्मेंट ले सकते हैं। उसके बाद सारी इन्शुरन्स कंपनियां आपको सेम NCB डिस्काउंट देगी।

5 . Take Written Quotation and Check Details

जो पांचवी सबसे महत्वपूर्ण चीज है वह है पॉलिसी से रिलेटेड कोई भी बात फ़ोन पर करने के बाद उनसे क्वोटेशन मेल पर जरूर ले लें। और इस बात का ध्यान रखे कि कार की डिटेल सही सही मेंशन हो। जैसे कि Registration No,Make and Model, Year of Manufacturing, Engine No. , Chassis Number, Your Name. 

अब आप कोटशन्स को बताये गए इन 5 चीजों के ऊपर कम्पैर करके अपने लिए सही पॉलिसी का चुनाव अपने बजट के अकॉर्डिंग कर सकते हैं। 

यदि आपको यह जानकारी (How to Select Best Car Insurance Policy) अच्छी लगी हो तो कमेंट करके जरूर बताएं और इसे अपने फ्रैंड्स और फॅमिली को भी जरूर शेयर करें। और इन्शुरन्स से रिलेटेड अगर आप और भी आर्टिकल्स पढ़ना चाहते हैं तो फिर हमारे ब्लॉग के नोटिफिकेशन को भी जरूर ऑन कर दीजिये। 

इन पोस्ट को भी पढ़े – 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

आज से लोन लेना हुआ महंगा LIC Large and Midcap Fund || एलआईसी लार्ज एंड मिडकैप फंड इन पेनी स्टॉक ने निवेशकों को किया मालामाल Small Saving Schemes में निवेश करने वालों को झटका स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया से होम लोन कैसे ले?