September 24, 2022
Aditya Birla Health Insurance Plan

Aditya Birla Health Insurance Plan

शेयर करें अपने दोस्तों के साथ

Aditya Birla Health Insurance Plan 2022 | Aditya Birla Activ Health Platinum Enhanced Plan Review in Hindi | Aditya Birla Health Insurance Plan in Hindi 

हेल्थ इंश्योरेंस बहुत ही इम्पोर्टेन्ट डिसीजन है। यह आपको किसी भी प्लांड या फिर अनप्लांड मेडिकल एक्सपेंसेस से बचाता है। इसलिए बहुत जरुरी है कि आप अपनी और अपनी फॅमिली के लिए इंश्योरेंस जरूर लें। इसी प्रोसेस को आसान करने के लिए इस पोस्ट में हम रिव्यु करने वाले हैं  Aditya Birla Health Insurance के Activ Health Platinum Enhanced Plan को। यह Aditya Birla का बहुत ही पॉपुलर प्लान है। हम डीटेल में बात करने वाले हैं इस प्लान के फीचर्स और साथ ही में देखेंगे इस प्लान का प्रीमियम। तो फिर चलिए जान लेते हैं Aditya Birla Health Insurance के Activ Health Platinum Enhanced Plan के बारे में।

Aditya Birla Health Insurance Activ Health Platinum Enhanced Plan Review

Aditya Birla Health Insurance कंपनी एक सब्सिडेरी है Aditya Birla Capital की। और साथ ही में यह इंडिया की टॉप स्टैंडअलोन हेल्थ इंश्योरेंस कंपनीज में आती है। स्टैंडअलोन हेल्थ इंश्योरेंस कंपनीज वह है जो कि सिर्फ हेल्थ इंश्योरेंस प्रोवाइड करती है और इसलिए उनका ज्यादा फोकस रहेगा इस सेक्टर में। अगर हम इंक्लेर्ड क्लेम रेश्यो की बात करे तो यह है 49.99% आदित्य बिरला हेल्थ इंश्योरेंस के लिए। यह रेश्यो बताता है कि कंपनी ने जितना भी पैसा लिया है प्रीमियम में उसमे से कितना वापस किया क्लेम्स में। किसी भी अच्छी कंपनी के लिए यह 50% – 90% के बीच में होना चाहिए।

Aditya Birla Health Insurance के इस प्लान का नाम Activ Health Platinum Enhanced Plan है। आप इसे चाहे तो ऑफलाइन या ऑनलाइन भी ले सकते हैं। ऑनलाइन लेने के लिए आप कंपनी की वेबसाइट पर जा सकते हैं या फिर प्लेटफॉर्म्स जैसे कि policy baazar, इसके थ्रू में जाकर ले सकते हैं।

Features of Activ Health Platinum Enhanced Plan:

सम इंश्योर्ड (Sum Insurred) 

यह बताता है कि मैक्सिमम क्लेम कितने अमाउंट तक का हो सकता है। मिनिमम यह प्लान स्टार्ट होता है 4 लाख से और मैक्सिमम आप 2 करोड़ तक का प्लान ले सकते हैं। आप इस प्लान को फॅमिली फ्लोटर में भी ले सकते हैं और इंडिविजुअल में भी। फॅमिली फ्लोटर में जो सम इंश्योर्ड है वह पुरे फॅमिली का कंबाइंड सम इंश्योर्ड होगा।

हॉस्पीटलाइज़शन एक्सपेंसेस (Hospitalization Expences) 

अगर आपका हॉस्पीटलाइज़शन 24 घंटे का होता है तो आपके सारे एक्सपेंसेस कवर्ड होते हैं। इसमें इंक्लूड होता है डायग्नोस्टिक चार्जेज, डॉक्टर फीस, ICU चार्जेज, रूम रेंट, ब्लड, एनेस्थीसिया।

अगर हम स्पेसिफीक्ली बात करे रूम रेंट की, तो यहाँ पर एके पास ऑप्शन होता है जिसमे आप चूस कर सकते हैं कि आप सिंगल यूज़ करना चाहते हैं कि शेयर्ड। अगर आप शेयर्ड वाला प्लान चूस करते हैं तो आपको प्रीमियम में एक डिस्काउंट मिलेगा। आप अपनी कन्वेनियंस के हिसाब से प्लान चूस कर सकते हैं। जनरली बाकि इंश्योरेंस कंपनीज के हेल्थ इंश्योरेंस प्लान्स में आपको यह ऑप्शन नहीं मिलता है चूस करने का। और सिंगल प्राइवेट ऐसी रूम्स इंक्लूडेड ही होते हैं पर यहाँ पर आपको  एडिशनल प्रीमियम पे करना पड़ेगा।

प्री हॉस्पीटलाइज़शन एक्सपेंसेस (Pre Hospitalization Expences)

अगर आपका हॉस्पीटलाइज़शन होता है तो पहले के मेडिकल एक्सपेंसेस जैसे कि कंसल्टेशन फीस, डायग्नोस्टिक चार्जेज। मेडिकल टेस्ट इत्यादि यह सब कवर्ड होते हैं। अगर इस प्लान की बात करे तो यहाँ पड़ी हॉस्पीटलाइज़शन है 60 डेज का।

इसी तरीके से पोस्ट हॉस्पीटलाइज़शन एक्सपेंसेस भी कवर्ड होते हैं। और यहाँ पर यह है 180 डेज का कवर।

नो क्लेम बोनस (No Claim Bonus)

अगर आपने पॉलिसी ली और पुरे साल में कोई भी कवर नहीं किया तो ऑटोमेटिकली नेक्स्ट टाइम आपका सम इंश्योर्ड 50% से बढ़ जायेगा। और लगातार आपने 2 साल ता कोई क्लेम नहीं किया तो यह मैक्सिमम बढ़कर डबल हो जायेगा।

रीलोड ऑफ़ सम इंश्योर्ड (Reload of Sum Insurred)

रीलोड ऑफ़ सम इंश्योर्ड जो कि किसी भी पॉलिसी का एक काफी इम्पोर्टेन्ट फीचर होता है। मान लीजिये किसी भी साल में आपका सम इंश्योर्ड टोटली एग्जॉस्ट हो गया है, तो ऑटोमेटिकली कंपनी उसे रेनू करा देती है और 100% दोबारा सम इंश्योर्ड आपको इशू हो जाता है जो की आप किसी फ्यूचर के क्लेम में यूज़ कर सकते हैं। पर ध्यान देने वाली बात यह है कि यहाँ पर आप उसे सेम इलनेस के लिए दोबारा यूज़ नहीं कर सकते हैं। पर काफी सारे हेल्थ इंश्योरेंस प्रोवाइडर्स जैसे कि स्टार हेल्थ अब सेम इलनेस में भी यूज़ करने का ऑप्शन देते हैं। तो वहां पर अभी आदित्य बिरला पीछे है।

एबुलैंस चार्जेज (Ambulance Charges)

अगर आप किसी भी नेटवर्क हॉस्पिटल में ट्रीटमेंट लेते हैं तो यहाँ पर रोड एम्बुलेंस फ्री है। अगर नॉन-नेटवर्क प्रोवाइडर्स में लेते हैं तो यह 5000 पर हॉस्पीटलाइज़शन आपको रीम्बर्स हो जायेगा।

ऑर्गन डोनर एक्सपेंसेस (Organ Doner Expences)

यहाँ पर अगर आपका कोई ट्रांसप्लांट होता है तो जो ऑर्गन डोनर है उसके भी हॉस्पीटलाइज़शन चार्जेज कवर्ड होते हैं सम इंश्योर्ड तक। 

डे केयर ट्रीटमेंट (Day Care Treatment)

यहाँ पर जो भी डे केयर ट्रीटमेन्ट्स है जहाँ पर आपका हॉस्पीटलाइज़शन 24 घंटे से कम का है वह सारे ट्रीटमेंट्स भी कवर्ड होंगे। पर ध्यान देने वाली बात यह है कि डे केयर ट्रीटमेंट OPD ट्रीटमेंट से अलग होता है। आप डे केयर ट्रीटमेंट की लिस्ट पॉलिसी डॉक्यूमेंट में देख सकते हैं। इसमें से कुछ एक्साम्पल्स हुए डायलिसिस, कीमोथेरेपी, कैटरेक्ट टोन्सिलिटीज़ इत्यादि। 

ट्रीटमेंट होम (Treatment Home)

अगर पेशेंट की ऐसी स्तिथि है कि उसे हॉस्पिटल में शिफ्ट नहीं किया जा सकता और हॉस्पीटलाइज़शन घर पर ही करना पड़े तो सारे एक्सपेंसेस कवर्ड होते हैं। और यहाँ पर हॉस्पीटलाइज़शन 3 डेज से ज्यादा का होना चाहिए और और किसी मेडिकल प्रैक्टिसनर की सुपरविशन में होना चाहिए। 

ओपीडी कवर (OPD Cover)

यहाँ पर यह अवेलेबल है सिर्फ 15 लाख और उसके ऊपर की पॉलिसी में और वह भी सिर्फ 1000 रूपीस। तो यह काफी कम है या फिर ना के बराबर है। 

आयुष कवर (Ayush Cover)

यहाँ पर आयुष जैसे कि आयुर्वेदा, यूनानी कवर्ड है और मैक्सिमम आप सम एश्योर्ड तक का क्लेम कर सकते हैं। 

एयर एम्बुलैंस (Air Ambulance)

अगर आपको किसी बजह से एयर लिफ्ट करना पड़े तो वह भी इस पॉलिसी में कवर्ड है 

बैरिएट्रिक सर्जरी (Bariatrick Surgery)

अगर आपको किसी बजह से बैरिएट्रिक सर्जरी कराना पड़े तो वह भी इस पॉलिसी में कवर्ड है। और आपको यह ऑप्शन तभी मिलता है जब यह आपको मेडिकली नेसेसरी हो और किसी मेडिकल प्रैक्टिसनर द्वारा रेकमेंडेड हो। 

प्रिवेंटिव हेल्थ चेकअप (Preventive Health Chekup)

यहाँ पर हर एक एडल्ट प्रत्येक साल अपना फ्री ऑफ़ कॉस्ट मेडिकल चेकअप करा सकता है। 

डेंटल कंसल्टेशन एंड इन्वेस्टीगेशन (Dental Consultation and Investigation)

यह सिर्फ 15 लाख और उसके ऊपर की पॉलिसी में कवर्ड है और यहाँ पर आपको फ्री ट्रीटमेंट फैसिलिटी आपको नेटवर्क हॉस्पिटल्स में ही मिलते हैं और प्रायर अपॉइंटमेंट मिलता है। 

क्रोनिक मैनेजमेंट प्रोग्राम (Chronic management Porogram)

अगर आपको कोई भी अस्थमा, ब्लड प्रेसर, कोलेस्ट्रॉल, डायबिटीज डिटेक्ट होता है तो कुछ कंसल्टेशन और टेस्ट इंक्लूड होते हैं पर यह काफी लिमिटेड अमाउंट के लिए होता है। 

Waiting Period: 

किसी भी पॉलिसी को लेने से पहले एक्सेप्शन को जानना जरुरी है। बात करते हैं वेटिंग पीरियड की, जैसे ही आप पॉलिसी लेते हैं तो उसके फर्स्ट 30 डेज में कोई क्लेम नहीं कर सकते एक्सेप्ट एक्सीडेंट। जनरली यह बाकि पॉलिसीस में भी सेम रूल होता है। अगर कुछ स्पेसिफिक डिसीसेस और प्रोसीजर की बात करे तो यह है 24 मंथ जिसमे  इंक्लूडेड होते हैं कैटरेक्ट, हर्निया इत्यादि। अगर पड़ी एक्सिस्टिंग डिसीस की वेटिंग पीरियड की बात करे तो वह इस पालिसी में है 3 इयर्स। इसके अलावा भी पॉलिसी में कई एक्सक्लूशन होते हैं। 

यह भी पढ़े: –

Leave a Reply

Your email address will not be published.

TATA Capital EMI Card कैसे बनाए? फिनबूस्टर क्रेडिट कार्ड ऑनलाइन कैसे अप्लाई करें Dhani One Freedom Card Kya Hai? Samsung Fingerprint Credit Card क्या है? Bandhan Bank One Credit Card Kaise Le
TATA Capital EMI Card कैसे बनाए? फिनबूस्टर क्रेडिट कार्ड ऑनलाइन कैसे अप्लाई करें Dhani One Freedom Card Kya Hai? Samsung Fingerprint Credit Card क्या है? Bandhan Bank One Credit Card Kaise Le